Monday, March 11, 2013

प्यार मे


झूठे वादे
झूठी कसमे
सुना था सब जायज है 
प्यार मे
बहुतो से मुखतलिफ़ हो गया हुँ
इस इशक के बाज़ार मे

© Copyright  rajnishsongara

No comments:

Post a Comment